Breaking News
Home / Latest News / इंडियन नेशनल टीचर्स कांग्रेस (इंटेक), कोई और विस्थापन नहीं: भाई-भतीजावाद और पक्षपात बंद करो

इंडियन नेशनल टीचर्स कांग्रेस (इंटेक), कोई और विस्थापन नहीं: भाई-भतीजावाद और पक्षपात बंद करो


 
इंडियन नेशनल टीचर्स कांग्रेस (इंटेक), कोई और विस्थापन नहीं: भाई-भतीजावाद और पक्षपात बंद करो
इंडियन नेशनल टीचर्स कांग्रेस (इंटेक)श्री समरवीर के शोक संतप्त परिवार के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करती है, जिन्होंने हिंदू कॉलेज में अपने शिक्षण पद से विस्थापन के कारण आत्महत्या कर ली।
ईसी संकल्प 2007 ने विभिन्न  कॉलेजों में तदर्थ शिक्षकों की नियुक्ति के लिए दिशा-निर्देश निर्धारित किए हैं, जिसमें कहा गया है कि एड-हॉक नियुक्ति चार महीने के लिए की जा सकती है, जिसके दौरान कॉलेज को एक गठित चयन समिति के माध्यम से स्थायी नियुक्ति प्रक्रिया शुरू करनी चाहिए। लेकिन, कॉलेजों द्वारा लगातार दिशा-निर्देशों का उल्लंघन किया गया और तदर्थ शिक्षकों को कई वर्षों तक अपने-अपने पदों पर काम करना जारी रखा गया। इन तदर्थ शिक्षकों की कोई गलती नहीं होने के कारण, उनमें से अधिकांश ने लंबे समय तक काम किया और इस दौरान कॉलेजों ने कई बार अपने शिक्षण पदों का विज्ञापन किया लेकिन कोई चयन समिति नहीं बनाई। 2016 में, दिल्ली विश्वविद्यालय शिक्षक संघ (DUTA) ने तदर्थ शिक्षकों को उनके संबंधित शिक्षण पदों के विरुद्ध समायोजन करने के लिए एक प्रस्ताव पारित किया, जिस पर वे काम कर रहे थे। इंटेक ने समायोजन की मांग का पुरजोर समर्थन किया और एड-हॉक शिक्षकों के समायोजन के लिए आयोजित सभी कार्यक्रम कार्यक्रमों में बढ़ चढ़ के भाग लिया। मानव संसाधन विकास मंत्रालय सहित सभी स्तरों पर इस मांग को लगातार खारिज करते हुए, विभिन्न कॉलेजों ने हाल ही में 2021 से 4500 शिक्षण पदों के खिलाफ रिक्तियों का विज्ञापन दिया और मार्च 2022 से इन पदों के लिए चयन समितियां गठित की गईं। शुरुआत से ही विभिन्न कॉलेजों में चयन प्रक्रिया एक मजाक बन गई थी, क्योंकि चयन समितियों के समक्ष उपस्थित होना उम्मीदवारों के लिए एक औपचारिकता मात्र बन गया था। 2-3 मिनट के लिए इंटरव्यू लिए गए और ऐसे चयन किए गए जो चयन प्रक्रियाओं में भाई-भतीजावाद, पक्षपात को दर्शाते हैं। जिस कॉलेज में वे काम कर रहे थे, उसके अलावा अन्य कॉलेजों में चयन समितियों के समक्ष उपस्थित होने वाले उम्मीदवारों को लगातार कहा जाता था कि चूंकि वे इतने वर्षों से दूसरे कॉलेजों में काम कर रहे हैं, इसलिए किसी भी साक्षात्कार की आवश्यकता नहीं है और उनका वहीं चयन कर लिया जाएगा। सत्ताधारी पार्टी का प्रतिनिधित्व करने वाले डूटा कार्यकर्ताओं के रिश्तेदार रातों-रात असाधारण बुद्धिमान हो जाते हैं और विभिन्न कॉलेजों में चुने जाते हैं। इंटेक चयन समितियों के दोहरे मानकों की कड़ी निंदा करती है जहां एक ओर वे अन्य कॉलेजों से साक्षात्कार में आने वाले लंबे समय से सेवारत तदर्थ शिक्षकों की उम्मीदवारी पर विचार नहीं करते हैं और दूसरी ओर उन तदर्थ शिक्षकों को विस्थापित करते हैं जो वर्तमान में कार्यरत हैं। साथ ही जब एक लंबे समय से सेवा कर रहे तदर्थ शिक्षक, एक कॉलेज से विस्थापन के बाद दूसरे कॉलेज में साक्षात्कार के लिए जाते हैं, तो उन्हें यह कहकर अपमानित किया जाता है कि वे जिस कॉलेज में काम कर रहे थे, उसमें उनका चयन क्यों नहीं किया गया।
डूटा के 4 दिसंबर 2019 के आंदोलन के बाद, 2019 से लागू की गई अपनी नई आरक्षण नीति के तहत, शिक्षा मंत्रालय द्वारा EWS श्रेणी के तहत 25% अतिरिक्त शिक्षण पदों को जारी करने का वादा किया गया था जो कि आज तक पूरा नही किया गया। नतीजतन, विभिन्न कॉलेजों के रोस्टर में 700 से अधिक शिक्षण पद ईडब्ल्यूएस श्रेणी में चले गए। साथ ही विश्वविद्यालय 20 से अधिक कॉलेजों में चयन समितियों का संचालन नहीं करने पर अड़ा हुआ है, जिसमें संस्थान के प्रमुख के रूप में कार्यवाहक प्राचार्य हैं। इन कॉलेजों में कार्यरत तदर्थ शिक्षक असुरक्षित और निराश महसूस कर रहे हैं क्योंकि पूरे विश्वविद्यालय में विभिन्न अन्य कॉलेजों में साक्षात्कार आयोजित किए जा रहे हैं लेकिन उनके कॉलेज में साक्षात्कार आयोजित करने की कोई पहल नहीं की जा रही है।
इनके अलावा, दिल्ली विश्वविद्यालय के 12  कॉलेजों में शिक्षण पद, जो दिल्ली सरकार द्वारा पूरी तरह से वित्तपोषित हैं, को दिल्ली सरकार से किसी भी अनुमोदन के अभाव में विज्ञापित नहीं किया जाता है, क्योंकि केंद्र सरकार और दिल्ली सरकार आमने-सामने हैं। इन कॉलेजों के शिक्षक कई वर्षों से नियुक्तियों और नियमित अनुदान का भुगतान न करने सहित विभिन्न मुद्दों के कारण पीड़ित हैं।
विभिन्न कॉलेजों में 1800 से अधिक पद स्थायी आधार पर भरे जा चुके हैं और 2700 से अधिक शिक्षक पद भरे जाने बाकी हैं। इन सब बातों को ध्यान में रखते हुए INTEC –
1) विभिन्न कॉलेजों में तदर्थ शिक्षकों के विस्थापन की कड़ी निंदा करता है।
2) माँग चयन समितियाँ तुरंत उन कॉलेजों में आयोजित की जाएँ जहाँ कार्यवाहक प्राचार्य संस्थानों का नेतृत्व कर रहे हैं।
3) मांग करता है कि जहां चयन समितियां आयोजित की जाती हैं वहां आगे कोई विस्थापन न हो।
4) चयन प्रक्रिया में भाई-भतीजावाद और पक्षपात की प्रथा की कड़ी निंदा करता है।
प्रो पंकज कु. गर्ग
अध्यक्ष,
इंडियन नेशनल टीचर्स कांग्रेस (इंटेक)

PLZ Subscribe RN TODAY NEWS CHANNEL https://www.youtube.com/channel/UC8AN-OqNY6A2VsZckF61m-g न्यूज़ या आर्टिकल व विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें (RN TODAY NEWS +919927141966) https://www.youtube.com/channel/UCFS7PmVqRXSD_4CQXaYvx0A  PLZ Subscribe

About Rihan Ansari

Check Also

निर्माता और अभिनेता शांतनु भामरे को महाराष्ट्र रत्न गौरव पुरस्कार में सर्वश्रेष्ठ निर्माता और अभिनेता के रूप में सम्मानित किया गया

🔊 पोस्ट को सुनें निर्माता और अभिनेता शांतनु भामरे को महाराष्ट्र रत्न गौरव पुरस्कार में …

Leave a Reply

Your email address will not be published.