Breaking News
Home / Latest News / गरीब से दूर शिक्षा व स्वाथ्य

गरीब से दूर शिक्षा व स्वाथ्य


गरीब से दूर शिक्षा व स्वाथ्य

कुछ शिक्षक व कुछ डॉक्टर अपने पैसे को बना लेते कमाई का धंधा

जांच रिपोर्ट के नाम पर मनमानी वसूली!शिक्षा जैसी सुविधाओं के नाम पर मार

ईश्वर के बाद अगर किसी व्यक्ति को जिंदगी देता है तो वह डॉक्टर ही है इसी लिए उसे धरती का भगवान कहा जाता है डॉक्टरी पेशे में कई बार ऐसे पल आते हैंं जब जीवन की उम्मीद लोग छोड़ देते हैं उस वक्त डॉक्टर मौत को मात देकर जिंदगी बचा लेता है!तथा शिक्षक ने समाज को हमेशा ही सुधार कर एक नई दिशा दी हैं!शिक्षा के कारण ही कोई समाज विकसित और सम्पन्न हो सकता है!लेकिन अब देखें तो कुछ ऐसे पैसे से जुड़े लोग पैसे रुपये के पीछे दौड़ रहें हैं चाहे किसी भी हद तक जाना पड़े! अस्पताल हो या शिक्षा एक बुनियादी मानव अधिकार हैं इसके बावजूद भी लोगो की परेशानियों को नजर अंदाज कर लूट का खेल खेला जा रहा हैं और सरकार या समाज सब कुछ देखकर भी अनजान सा बना हुआ हैं!हम देख रहे हैं कि हमारे देश में इन मेडिकल व शिक्षा जैसी सुविधाओं के नाम पर किस तरीके की लूटमार मची हुई है!लेकिन बाजारवाद और भ्रष्टाचार की चपेट में इने संचालन करने वालों ने इसे अपनी आय का जरिया बना लिया है!अगर आम आदमी अस्पतालों में प्रवेश कर जाए तो हालत यह है कि आधा बीमार वह अस्पतालों के आर्थिक बोझ से ही हो जाता है! इस कदर लूट मची हुई है कि लोगों के हाथों में कई प्रकार की जांच रिपोर्ट के नाम पर मनमानी वसूली की जा रही है!कई बार तो अस्पतालों के डाक्टरों को ऐसा लगता है कि मरीज को अस्पताल में भर्ती करने की आवश्यकता नहीं है फिर भी यह अपनी कमाई बढ़ाने के लिए मरीज को जीवन का डर दिखाकर अस्पताल में भर्ती कर लिया जाता है!इसके अलावा उसके अंतिम भुगतान में अनेक प्रकार के फिजूल खर्च जोड़ दिए जाते हैं जिनका बीमारी से कोई संबंध नहीं होता! तो वहीं दूसरी ओर स्कूलों में बच्चों को इसलिए भेजा जाता है ताकि हमारे बच्चों का बौद्धिक विकास हो शिक्षा का केवल एक ही मकसद होता है कि व्यक्ति को बौद्धिक स्तर पर मजबूत बनाया जाए लेकिन यह साफ देखा जा सकता है कि कैसे स्कूल संचालक इसके माध्यम से धन्ना सेठ बनने का ख्वाब देखते हैं!इसके अतिरिक्त स्कूलों में कई कई प्रकार की गतिविधियां बताकर अभिभावकों से पैसा वसूला जाता है कभी बिल्डिंग फीस कभी जननेटर तो कभी कुछ और!सोच कर देखा जाए तो यह कितना डरावना है? क्या इसका अर्थ है मान लिया जाए कि असंगठित क्षेत्रों में कार्य करने वाले लोग या फिर मजदूरों या गरीबों के बच्चे इन स्कूलों में प्रवेश लेने के पात्र नहीं है?या अस्पताल में इलाज़ कराने लायक नही हैं या फिर पैसे के बगैर वो इलाज़ से वंचित रहेंगे?लेकिन यह भी नही भूलना चाहिए के हमें हमेशा धरती पर नहीं रहना है!

PLZ Subscribe RN TODAY NEWS CHANNEL https://www.youtube.com/channel/UC8AN-OqNY6A2VsZckF61m-g न्यूज़ या आर्टिकल व विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें (RN TODAY NEWS +919927141966) https://www.youtube.com/channel/UCFS7PmVqRXSD_4CQXaYvx0A  PLZ Subscribe

About Rihan Ansari

Check Also

Alisha Shephali and Jyotsna Rai hit the highest marks in the premium contest and wins Glam Guidance Miss/Mrs India Asia 2024

🔊 पोस्ट को सुनें Alisha Shephali and Jyotsna Rai hit the highest marks in the …

Leave a Reply

Your email address will not be published.